भगवान और गुरु की कृपा – द हिंदू

गुरुवार (अप्रैल 21) की सुबह जब यहां घोड़ों का अभ्यास किया गया तो भगवान और गुरु प्रसन्न हुए।

भीतरी रेत:

600 मीटर: प्रकृति की लय (अय्यर) 42. आसान। कामदेव (ज़ीशान) 43. आसान। आमे (परमार) 39. आज़ादी से घूमा। स्मार्ट चॉइस (आरबी) 43. आसान। एम्पावर (शेलार) 41. धाराप्रवाह चले गए। उदासीन (ज़ीशान) 42. आसान।

800मी: सिल्वर स्टेप्स (ज़र्वन) 55, 600/41। दब गया। लगर्था (जमीर) 57, 600/43। आसान। ऐरा (वी. बुंदे) 54, 600/41। अच्छी तरह से ले जाया गया। 1400 मीटर: भगवान और गुरु (परमार) 1-38, 1200/1-23, 1000/1-8, 800/55, 600/41। आकर्षक रूप से ले जाया गया।

.

Source

Leave a Comment

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: